Tuesday, January 21, 2014

Ek Dhundh Men Jaana Hai...

धुँध

~ साहिर लुधियानवी 

14_01_20143238055962_fog_scape

संसार की हर शै का इतना ही फ़साना है
एक धुँध से आना है, एक धुँध में जाना है

14_01_20142916055669_womenfolk_in_fog_scape


ये राह कहाँ से है, ये राह कहाँ तक है
ये राज़ कोई राही समझा है न जाना है

14_01_20142975055715_reflections_in_fog

एक पल की पलक पर है, ठहरी हुई ये दुनिया
एक पल के झपकने तक हर खेल सुहाना है

fogpanorama_cropped

क्या जाने कोई किस पल, किस मोड़ पे क्या बीते
इस राह में ऐ राही, हर मोड़ बहाना है

14_01_20142906055659_dew_drops_on_web_c

हम लोग खिलौने हैं, एक ऐसे खिलाड़ी के
जिसको अभी सदियों तक, ये खेल रचाना है


4 comments:

Jai Talwar said...

sooper mystical shots!!

anil said...

Dude!!! AWESOME pics!!! And a too good poem!!!! This entire piece gave me goosebumps, both while reading the poem and while seeing the pix. Your best one ever!!!!!!!

SK said...

Outstanding...your best yet Ashish..

Blasphemous Aesthete said...

Beautiful pictures.
I had been looking for this particular poem for a long time now. I just remembered that there is a song, and that had the opening lines of this poem. Thanks for sharing!

Cheers,
Blasphemous Aesthete